Home / App रिव्यू / Hard Disk क्या है? HDD Full Form in Hindi (Hard Disk Kya hai)

Hard Disk क्या है? HDD Full Form in Hindi (Hard Disk Kya hai)

शेयर करे:

क्या आप जानते हैं? Hard Disk क्या है? Hard Disk का Full Form क्या है? अगर आपको इन सभी सवालों का जवाब नहीं पता तो आप सही जगह पर हो, क्युकी इस पोस्ट के माध्यम से आपको इन सभी सवालों के जवाब मिलेंगे. 

आज इस Digital दुनिया मे हम सबने Computer का उपयोग किया ही होगा. फिर चाहे किसी Video, Audio, ओर अपने मनोरंजन के लिए या तो फिर कोई online/offline वर्क के लिए या कोई Game खेलने के लिए. वैसे तो कई सारे काम आप Computer पर कर सकते हो, पर क्या आपने कभी सोचा है की इन सभी कामों को करने के लिए एक Computer कितनी Process करता है? उसमे कितने Parts होता है? जिसकी मदद से एक Computer आपके दिए हुए काम कर पाता है.

ऐसा ही Computer का एक महत्वपूर्ण Part ‘Hard Disk’ है, जिसकी पूरी जानकारी आपको इस पोस्ट से मिलने वाली है. 

हम सब ने Computer मे किसी File, Photo, Videos, Game, या फिर कोई पर्सनल DATA को सेव किया होगा. ये सभी Digital DATA HDD यानी ‘Hard Disk’ में Store होता है. बल्कि हमारे Computer का Window भी Hard Disk में Install रहता है. जिससे हमारा कंप्यूटर चल पाता हैं। 

जैसे हम, अनाज को स्टोर करने के लिए उसे बोरी मे रखते है, वैसे ही Computer मे कोई भी Digital Data को स्टोर करने के लिए Hard Disk की जरूरत रहती है. इस पोस्ट के माध्यम से आप जानेंगे की Hard Disk क्या है? Hard Disk का Full Form क्या है? ओर इस से संबंधित सभी सवालों के जवाब.

Hard Disk क्या है? – (Hard Disk kya hai?) HDD full form

Hard Disk Computer का एक हिस्सा है, जिसे Disk Drive भी कहा जाता है. इसे HDD भी कहा जाता है। HDD का Full Form “Hard Disk Drive”(हार्ड डिस्क ड्राइव) है, जो हमारे सभी प्रकार के Digital Data को स्टोर करता है. 

आज अगर हम Computer या Laptop ख़रीद ने जाते है, तो पहले से ही Hard Disk इंस्टॉल मिलती है. क्युकी SSD के मुकाबले Hard Disk सस्ती होती है. इसलिए एक स्टॉरिज Device के लिए पहली पसंद Hard Disk ही रहती है. 

Hard Disk वास्तव मे Disk का सेट होता है, जो Disk हम पुराने जमाने मे DVD player मे देखते थे वैसी ही आकार वाली Disk, Hard Disk मे होती है. Hard Disk मे संग्रहीत सभी Digital Data Permanently save रहता है. इसमे Save किसी भी Data को हम कभी भी कही भी Access कर सकते है.

Hard Disk की सबसे खास बात ये है की Compuer का Power Off होने के बाद भी उसमे Store सभी Data सुरक्षित रहते है. जबतक की आप उसे Delete नहीं करते.

Hard Disk को एक Secondary Storage Device भी कहा जाता है. जबकि Computer की Primary memory RAM (Random access memory) होती है.

Hard Disk कैसे काम करती है?

Hard Disk Computer का एक आवश्यक पार्ट है, जिसके बिना Computer शायद ही इतना विकसित होता. Hard Disk Computer के brain के समान है. जिस तरह हमारा brain कोई भी चीज़े याद रखता है, वैसे ही Hard Disk कंप्युटर के सारे Data को save रखता है. 

Hard Disk कोई भी Data को Store करने के लिए (Electro magnetic material) का उपयोग करता है. हमे नाम से ही पता चलता है, की इसमे Disk लगी रहती है. जो कोई भी Process के दरमियान बड़े ही तेजी से घूमती है. 

HDD मे ‘Magnetic Material’ (चुम्बकीय तत्वों) से बनी पतली पट्टी होती है, जो platters मे मौजूद होते है. Hard Disk मे Data को Read-Write करने के लिए ARM (आर्म) लगा रहता है, जो कोई भी Procees के दरमियान Platters के ऊपर दांए-बाएँ घूमता रहता है. 

HDD एक set rotation के साथ आता है, जो 4,200 RPM से 15,000 RPM के बीच मे रहता है. RPM का Full Form (Revolution Per Minute) है. जिसका अर्थ है – (प्लेटर ने एक मिनट में कितने चक्कर लगाए) RPM से Hard Disk की Speed का पता लगाया जाता ही. जितना RPM ज्यादा उतनी ही Read-Write की Speed ज्यादा होगी. 

ज्यादातर Desktop या Laptop मे 5,400 से लेकर 7,200 RPM वाली Hard Disk होती है. इससे बड़ी RPM वाली Hard Disk, high-end Workstation ओर Enterprise Server मे पाए जाते है.

Hard Disk का इतिहास 

IBM के Engineer ने 1953 मे सबसे पहली Hard Disk बनाई थी. जिसकी साइज़ लगभग दो refrigerator के बराबर थी. बाद मे 1956 मे पहली वाणिजीक Hard Disk आधारित Computer SMB FBM 305 RAMAC (random access method of accounting and control) को shipped किया था. जिसकी लागत लगभग $10,000 प्रति Mega Bite (MB)थी। 

माना जाता है की Computer Technology मे ये बहुत बड़ा कदम था, जो चुंबकीय Tap पर निर्भर था. यह एक ऐसा साँसोधन हो गया था जिससे IBM को बहुत बड़ा फायदा होने वाला था. ओर ऐसा हुवा भी. IBM लगातार अगले कुछ दसको तक Hard Disk Technology के विकास मे अग्रणी रहा. 

कुछ सालों बाद IBM ने अपना पहला Removable Hard Disk 1311 पेश किया. इसका पहला Disk पैक था जो IBM 1316 जिसमे ‘6’ 14 इंच के Platters के साथ 2.6 MB स्टॉरिज शामिल था. 

इसके बाद IBM धीरे धीरे अपनी Techniology मे बदलाव करते गया, ओर Hard Disk मे ओर Improvement करते गया.

Hard Disk के इतिहास मे सबसे बड़ा बदलाव तब आया जब सन 2000 मे Maxtor ने अपने प्रतिस्परधी Quantum को खरीदी लिया. आपकी जानकारी के लिए बता दे की Maxtor ओर Quantum American based Hard Disk Manufacturer है.

Seagate जो की एक American Data Storage Company है. जिसने अपना 15,000 RPM वाला Cheetah x15 HDD बनाया. तब HDD केत्पादन मे बहुत उलटफेर हुवा. 

सन 2003 मे Hitachi ने IBM के Data Storage Business को खरीद लिया. जबकि Seagate ने अपना पहला Serial Advanced Technology Attachment Computer Bus Interface बनाया. ओर Western Digital ने पहले 10,000 RPM SATA Hard Disk 37 GB Raptor बनाया. 

इन सभी बदलावों के बीच Hitachi ने अपना 500 GB HDD 2005 मे Shipped किया. जिसके बाद से Seagate, Hitachi ओर Western Digital Technology दिनप्रतिदीन Hard Disk की Technology मे बड़ा चेंज ला रहे है.

Capacity 

अगर हम बात करे Capacity की तो, सन 2000 से पहले ही 500 GB या 1 TB तक Hard Disk मार्केट मे उपलब्ध थी. जिसे आसानी से ख़रीद सकते थे. 

जैसे जैसे Technology बदलती गई बेहतरीन Hard Disk के बेहतरीन Variant हमे मिलते गए. सन 2000 के अंत होने के पहले ही Seagate ओर Western Digital ने अपनी पहली 3 TB HDD को लॉन्च कर दिया. 

सन 2013 मे Seagate के पास 5 TB HDD मौजूद थी. जबकि आज उसके पास 6 TB तक कि HDD मौजूद है.

Hard Disk के पार्ट्स 

Hard Disk एक ऐसा Device है, जो कई सारे Parts से मिलकर बना है. इसमे कई सारे ऐसे components है. ऐसे कुछ महत्वपूर्ण भाग (parts) के बारे में बात करेंगे. जिसकी जानकारी आपके Knowledge मे वृद्धि करेंगी. 

Hard Disk क्या है

1. SPINDLE

SPINDLE प्लेट्स को स्थिति में रखता है और आवश्यकतानुसार घुमाता है. यह एक मोटर है जो प्रति-मिनट की रेटिंग निर्धारित करती है कि Hard Disk से कितनी तेजी से DATA लिखा और पढ़ा जा सकता है. Spindle एक दूसरे से अलग पट्टियों को एक दूसरे से अलग रखती है ताकि पहुंच प्राप्त करने के लिए Read/Write ARM को सक्षम किया जा सके.

2. READ/WRITE HEAD

Platers से Data संचारित करने के लिए उपयोग किए जाने वाले रिकॉर्डिंग Heads को READ/WRITE HEAD कहा जाता है. Platter की चुंबकीय परत पर संग्रहीत DATA को Record करने और उसे Play  करने के लिए जिम्मेदार रहता है. 

3. READ-WRITE ARM 

READ-WRITE ARM, READ-WRITE Head के पिछले का हिस्सा है. ये दोनों आपस मे जुड़े रहते है.

4. ACTUATOR

Actuator या हेड Actuator एक छोटी मोटर होती है जो ड्राइव सर्किट बोर्ड से Read/Write ARM के मूवमेंट को नियंत्रित करने और Platters से Data ट्रांसफर की निगरानी करने के लिए निर्देश लेती है. 

5. LOGIC BOARD

Hard Disk से Input या Output होने वाली सभी जानकारी को नियंत्रित करने वाली एक तरह की चीप है

6. CIRCUIT BOARD

इसक काम Platers से DATA के प्रभाव को नियंत्रित करना है.

यह भी पढे –

आखिर मे

Hard Disk का चुनाव करना आज के समयमे लाभदायक रहता है. अगर हम बात करे एक सामान्य उपयोग करता या फिर कोई एनटरर्प्राइज़ के लिए एक बढ़िया ऑप्शन है..

SSD के मुकाबले HDD बहुत सस्ती होती है. जिसकी वजह से आज-कल के सभी Entry लेवल के Desktop ओर Laptop मे HDD को ही पहले पसंद किया जाता है.

SSD की बात करे, तो ये HDD से 3 से 4 गुना फास्ट ओर कम पावर उपयोग करती है. SSD एक बेहतर ड्राइव है अगर आप कोई Advance user है.

उम्मीद करते है की इस पोस्ट के माध्यम से आपको Hard Disk क्या है? Hard Disk के महत्वपूर्ण भाग (parts) ओर उपयोग, Hard Disk का Full Form से संबंधित कई सारे सवालों के उत्तर मिल गए होंगे.

अगर इस पोस्ट से संबंधित कोई भी सवाल या सुझाव हो, तो कमेन्ट बॉक्स मे कमेन्ट ज़रूर करे.

शेयर करे:

हैलो दोस्तों, मैं JAYDEEP, Hinditag.com का Author & Founder हूँ. मुझे Computer, Internet, Technology से सम्बंधित नयी नयी चीज़ों को सीखना और दूसरों को सिखाना बहुत पसंद है. यहा पर मैं कंप्यूटर, इंटरनेट के बारे में अपना ज्ञान साझा करता हूं.

Leave a Comment