RAM क्या है? RAM का फूल फॉर्म क्या है? जानिए RAM की पूरी जानकारी हिन्दी मे

Share करे:

RAM क्या है? (ram kya hai) RAM का फूल फॉर्म क्या है? (ram ka full form kya hai) ये सभी सवाल आपने कभी न कभी सुने होंगे या आपने सोचे होंगे। अगर आप कोई PC बना रहे हो या कोई मोबाईल लेने जा रहे हो तो आपके मनमे सवाल आता होगा की कीतनी RAM वाला मोबाईल लेना चाहिए या कीतनी RAM की हमारे PC मे आवस्यकता होगी। जिससे की आगे चलते कोई परिसानी ना आए। इस पोस्टके माध्यम से आपको सारे सवालों के जवाब मिलेंगे। 

RAM हमारे मोबाईल/कंप्युटर मे महत्वपूर्ण Part है। क्युकी बिना RAM के हमारा डिवाइस चलही नहीं सकता। RAM की वजह से ही हम कोई काम हमारे सिस्टम मे कर पते है, कोईभी Software या App को बहोत ही फास्ट ओर स्मूथ चला पाते है। हमारे डिवाइस का वर्तमान कार्य पूरी तरीके से RAM पर निर्भर है।

हम सब RAM के बारे मे ये सोचते है, की RAM हमारे पीसी/मोबाईल की स्पीड बढ़ाती है। RAM की वजह से ही हमारा डिवाइस फास्ट चलता है। ओर RAM कम होने पर डिवाइस हैंग हो जाता है। तो हम अगर Technically सोचे तो ये सचभी है, क्यूकी कोईभी डिवाइसका स्लो होना या फास्ट होना उसकी RAM पर निर्भर करता है।

इस पोस्ट के माध्यम से आपको RAM की बारे मे पूरी जानकारी मिलेगी। इस पोस्ट मे आप जानोगे की RAM क्या है? ये कैसे काम करती है? RAM ka full form kya hai? साथ ही ये भी जान सकेंगे की इसकी विशेषताएं क्या हैं. Computer/mobile मे कीतनी RAM होनी जरूरी है?

मेमोरी क्या होती है? कितने प्रकार की होती है?

RAM के बारे मे जानने से पहले हमे ये जानना जरूरी है की कोईभी कंप्युटर/मोबाईल मे मेमोरी क्या होती है? ये कैसे काम करती है।

मेमोरी हमारे डिवाइसमे स्टॉरैज के जेसी होती है। जिसमे सारे डाटा फाइल, फ़ोटोज़, वीडियोज़ डॉक्युमेंट्स वगेरे डाटा को save करके रखते है। जिसे की जरूरत पड़ने पर हमारा डिवाइस उसे access करके हमे डिस्प्ले कर पाए। 

मेमोरी को छोटे छोटे भागोंमे विभाजित किया हुआ रेहता है। जिसे हम cell कहते है। हमारी request के अनुसार कंप्युटर अगर कोई डाटा access करना चाहे तो ओ cell की मददसे access करता है। हर एक cell मे निश्चित डाटा स्टोर होता है जिससे कोई निश्चित डाटा को डुंडने मे आसानी रहती है।

मुख्य रूप से हमारे कंप्युटर/मोबाईल मे 3 प्रकार की मेमोरी होती है।

  1. Primary Memory
  2. Secondary Memory
  3. Cache Memory

Primary Memory प्राइमरी मेमोरी

प्राइमरी मेमोरी हमारे कंप्युटर/मोबाईल की main मेमोरी होती है। वही पर सारा डाटा स्टोर रहता है। सारे सिस्टम का काम वही से होकर process होता है। प्राइमरी मेमोरी का स्पेस सीमित होता है।

प्राइमरी मेमोरी 2 टाइप की होती है।

  1. RAM
  2. ROM

RAM क्या है ( What is RAM In Hindi )

RAM को Random Access Memory कहा जाता है। यह किसीभी system की main मेमोरी होती है। हमारा वर्तमान मे चल रहा सारा काम यही store हुव रहता है।

जैसा की हमने आपको बताया की किसी भी system की मेमोरी 3 प्रकारकी होती है।  उसमेसे RAM, प्राइमेरी मेमोरी होती है। हम अपने मोबाईल मे कोईभी apps चला रहे हे या फिर कोई game खेल रहे हे। वह सभी मोबाईल की इन्टर्नल स्टॉरेज मे सेव रहती हे, पर जब हम उसे अपने use के लिए ओपन करते है तब ओ इन्टर्नल मेमोरीमे से हमारे RAM मेमोरी मे आकार open होती है। ऐसा ही कॉमपुटर मे भी होता हे जब हम कोई सॉफ्टवेर को ओपन करते है तब ओ किसी ड्राइव मे save रहता है पर जब उसे चलाना हो तो उसका सारा डाटा RAM मे आकार open होता है।

RAM का डाटा उसके अलग अलग cell मे store होता है। जिसका अपना Unique Address होता हैं। CPU इसी cell से data प्राप्त करता है। RAM CPU का एक भाग है। CPU जब चाहे उसे access कर सकता है।

RAM का मतलब Random Access Memory होता है। इसके नाम मे ही Random लिखा हुआ है जिसका मतलब ये Random access कीये जाने वाली मेमोरी है। RAM मे data temporary सेव रहता हे। जब तक सिस्टम चालू रहेंगी तब तक RAM मे डाटा सेव रहेगा। ओर पावर ऑफ (computer/mobile- Shut down) होने पर सारा डाटा डिलीट।

CPU और RAM का सीधा कनेक्शन होता है। ओर RAM अन्य मेमोरी के मुकाबले बहोत ज्यादा फ़ास्ट होती है। जिससे की CPU तक DATA बहुत फास्ट पहुंच पाता है| 

RAM कितने प्रकारकी होती है?

RAM के 2 प्रकार है

  1. SRAM
  2. DRAM

SRAM

SRAM को Static Random Access Memory कहा जाता है। यह मेमोरी अस्थाई मेमोरी होती है। जब तक इसमे power on रहेगा तब तक इसमे डाटा स्टोर रहता है, पर पावर off होने पर सारा data स्वयं delete हो जाता है।

यह मेमोरी सिस्टमकी cache memory के रूपमे इस्तेमाल होती है। ये static मेमोरी है।  इसको बार बार Refersh करने की कोई जरुरत नहीं पड़ती क्योंकी इसका Data स्थिर रहता है। SRAM flip-flop से मिलकर बनी होती है।

DRAM

DRAM को Dynamic Random Access Memory कहा जाता है।

DRAM को भी प्राइमरी मेमोरीके रूप मे इस्तेमाल किया जाता है, क्युकी इसके डाटा  भी randomly access किया जा सकता है। इसे बार बार refresh करना पड़ता है।

system मे आने वाले डाटा अपने आप सेव हो जाते है। जिसे की cpu ओर system की स्पीड बढ़ जाती है। वर्तमान मे सबसे ज्यादा use होनी वाली RAM DRAM है। ज्यादातर स्मार्टफोन ओर कॉमपुटरमे यही RAM इस्तेमाल होती है। क्युकी इसका पावर consumption बहुत ही कम है।

यह भी पढे 

कंप्युटर/मोबाईल की रैम कितनी होनी चाहिए

वर्तमान समयमे मोबाईल कंप्युटर कोन use नहीं करता।  बीते कुछ सालों मे दुनिया बहुत तेजी से digital हो रही है। बच्चे से लेकर बूढ़े तक सब मोबाईल फोन का use कर रहे है। मोबाईल फोन मे आने वाली सभी सुविधाओ का लाभ उठा रहे है।

दुनिया digital होनेके कारण कंप्युटर/मोबाईल मे आने वाली एप ओर गेम को भी ज्यादा बेहतर बनाया जा रहा है, जिसे की उपयोग करताओ को अछि वैल्यू प्रदान कर सके।

हम सब Whatsapp, Instagram, Facebook जेसे अप्प्स ओर COD, PUBG जैसी गेम खेलते है। ये सभी एप ओर गेम्स हमारी RAM को बहोत अधिक मात्रा मे use करती है। अगर हमारे कंप्युटर/मोबाईल मे जरूरत से कम RAM होगी तो, हमारा कंप्युटर/मोबाईल हैंग ओर लेग कर सकता है। क्युकी अगर हमारे कंप्युटर/मोबाईल मे 1gb की ही ram है ओर हम उसमे COD या PUBG चलायेंगे तो इन गेम को कम से कम 3 से 4 GB तक का RAM जरूरी है।

जेसे जेसे नई नई टेक्नॉलोजी विकसित हो रही है। हमारे डिवाइस मे चलने वाले एप ओर गेम मे भी बदलाव आ रहे हे।  जिसे उसकी साइज़ बढ़ रही है। हमे इसी बदलाव के साथ चलना होगा। हमे भी हमारे कंप्युटर/मोबाईल की RAM को हमारी जरूरीयतों के हिसाब से रखना होगा। वर्तमान मे हमे कम से कम 6 या 8 GB तक की RAM रखनी चाहिए। जिसे की बाद मे हमे कोई परिसानी ना आए।

निष्कर्ष

इस post के माध्यम से आपने जाना की RAM क्या है? ओर ये केसे काम करती है? RAM के कितने प्रकार है? RAM कितनी जरूरी होती है हमारे डिवाइस के लिए। हमे उमीद है की इस पोस्ट के माध्यमसे आप RAM के बारे मे काफी कुछ जान गए होंगे।

अगर हमारे लिए कुछ सुजाव है तो जरूर comment करके बताए।

Leave a Comment